logo

काव्य कलश: एक छोटा सा गांव..वह एक छोटा सा गांव..वहां के बच्चे पढ़ना चाहते हैं..पर जब लेकर

logo
news-details

एक छोटा सा गांव 

वह एक छोटा सा गांव 

वहां के बच्चे पढ़ना चाहते हैं 

पर जब लेकर 

निकलते हैं अपना बस्ता

तो ढूंढते रहते हैं 

स्कूल कहाँ हैं ?

 

उन्हें डर लगता है

जब स्कूल में देखते हैं 

हथियारों का ज़खीरा

कंधे पर बंदूक ताने

सीआरपीएफ जवान 

या प्रशासन का कोई भी 

बंदूकधारी नौकर

वे ढूंढते हैं 

स्कूल कहाँ हैं?

 

उन्हें डर लगता है 

उनके बंदूक से 

वे कहना चाहते है

हटाओ उसे 

मुझे पढ़ना है

वे चाहते है

वहां  बंदूक न रहे

वहां किताबें रहे

डेस्क रहे, बैंच रहे

और शिक्षक रहे

जिनके हाथ में

 कलम हो, किताब हो

पर वे कह नहीं पाते

 उनके लिए 

ऐसा स्कूल कहाँ हैं?

 

जब वे सुनते हैं 

अखबारों में छपी है

कि उड़ा दिया 

माओवादियों ने

बच्चों का स्कूल 

 वे गुस्से से बुदबुदाते हैं 

झूठ सब झूठ

जो पहले से ही

बनाया जा चुका था 

प्रशासनिक कैंप

जिसे उड़ाया गया

वह स्कूल कहाँ है?

 

वे  चाहते है

यह खबर छापने से पहले

छपती यह खबर

कि हम गांव के बच्चे

पढ़ना चाहते हैं 

पर हमारे स्कूलों का

हो गया है अतिक्रमण 

यह अतिक्रमण हटेगा क्या

हमें हमारा स्कूल मिलेगा क्या

क्योंकि हमें पढ़ना है।।

-----------------------------

इलिका

logo

Related News

logo
';