logo

संतों के उद्घोष से CAA के समर्थन में ऐतिहासिक रैली,लगभग 35 हजार से अधिक महिलाएं, पुरूष शामिल हुए ।

logo
news-details

भरत शर्मा की रिपोर्ट

आज का दिन न्यूज पोर्टल रतलाम : 8 जनवरी 2020

भारत की आजादी और धार्मिक आधार पर विभाजन के बाद से पाकिस्तान, अफगानिस्तान, और बांग्लादेश इस्लामिक देश बन गए थे । इन इस्लामिक देशों में रह गए वहां के अल्पसंख्यक याने हिन्दू, बौद्ध, जैन, सिक्ख, ईसाई व पारसी फिर से वंहा गुलाम बन गए थे । धर्म के नाम पर घोर प्रताड़ना और अत्याचार झेल रहे थे । जो आजादी के कुछ समय बाद से ही वापस आकर अपने जीवन, धर्म, बच्चों और महिलाओं की रक्षा के लिए भारत मे शरण लिए हुए थे । शरणार्थियों भारत की नागरिकता नही होने से उनकी कई पीढियां भारत मे अपना वैध रूप से अपना घर, बच्चों की अच्छी शिक्षा, नौकरी, लोन, स्वस्थ, अपनी पहचान, मताधिकार आदि जीवनावश्यक मूलभूत सुविधाओं से आज तक वंचित रहे ।

देश की आजादी के 70 वर्षों बाद भारत की वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा उन सब शरणार्थियों को सम्मान और स्वाभिमान से सुरक्षित और समान जीवन जीने के लिए उन्हें भारत की नागरिकता का अधिकार देने वाला ऐतिहासिक निर्णयों में से एक CAB बिल लाया गया, जो अब संसद में पारित हो कर CAA कानून बन चुका है ।

आज इसी ऐतिहासिक CAA कानून के समर्थन में रतलाम जिले की राष्ट्रभक्त जनता रतलाम की सड़कों पर उमड़ पड़ी ।

 # संतो द्वारा शंखों के उद्घोष से प्रारंभ हुई महारैली,

 # संतों के नेतृत्व में चला समाज ।

 # लगभग 45 हजार से अधिक महिलाएं, पुरूष शामिल हुए ।

 # बड़ी संख्या में नागरिक राष्ट्रीय ध्वज और तख्तियां लिए हुए थे ।

 # विभिन्न समाजों ने दिया अपना समर्थन ।

 # कानून के समर्थन में एकजुट होकर साथ आये अभिभाषकगण ।

 # सभी सामाजिक, व्यावसायिक संगठनों ने दिया समर्थन ।

 # जिले के जनप्रतिनिधि और प्रबुद्धजन भी हुए समर्थन में शामिल ।

 # समर्थन में व्यावसायिक संस्थानों ने अपनी दुकान की शटरें भी स्वेच्छा से बंद की ।

 # रैली में अनुशासन और शालीनता की ऐतिहासिक झलक दिखी ।

 # रैली पूर्ण रूप से मौन और शांति के साथ सम्पन्न हुई ।

 # समापन स्थल पर संतो द्वारा भारतमाता के चित्र पर माल्यार्पण और दिप प्रज्वलित कर, नागरिकों द्वारा राष्ट्रगान गाया गया ।

 # पुलिस और प्रशासन प्रभावी सुरक्षा, व्यवस्था और समन्वय के साथ रहा पूरे समय मुस्तेद ।

 # आयोजक / निवेदक रहे, ✊

';