slider
slider
slider
slider
slider
slider

विधायक के करीबी और सलाहकार पर भाजपा जिलाध्यक्ष ने लगाया गंभीर आरोप : भ्रष्टाचार के मामले में संलिप्तता के साथ साथ गरीबों का भोजन डकारने का गंभीर आरोप,

news-details

भाजपा जिलाध्यक्ष ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कांग्रेस विधायक के इशारे पर फर्जी तरीके से स्व सहायता समूह का गठन पर किया गया लाखों का बंदरबाट,कलेक्टर की जांच रिपोर्ट से हुआ खुलासा शिवशक्ति स्व सहायता समूह को कराया लाखों रुपयों का फर्जी भुगतान,

जशपुर : भाजपा लगातार हमलावर होती जा रही है।चुनाव से ठीक एक दिन पहले जशपुर भाजपा जिलाध्यक्ष सुनील गुप्ता ने बड़ा खुलासा किया है।उन्होंने विधायक विनय भगत के करीबी शहर ब्लाक अध्यक्ष सूरज चौरसिया को आड़े हाथों लेते हुए पद का दुरुपयोग कर प्रशिक्षण के नाम पर लाखों के भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है।

जिलाध्यक्ष सुनील गुप्ता ने प्रशासन के आरोप पत्रों की पुष्टि करते हुए कहा कि यह मामला वित्तीय वर्ष 2018-19 का है जिसमें जिला पंचायत से बड़े पैमाने पर बिना प्रशिक्षण के लाखों का भुगतान केवल विधायक का धौंस दिखाकर कराया गया है।

सुनील गुप्ता ने बताया की जिस समूह को भुगतान कराया गया है वह विधायक विनय भगत के बेहद करीबी सूरज चौरसिया की पत्नी व परिवार के लोगों के नाम पर है।मामले में जिला प्रशासन ने भी जांच कराते हुए दोषी कर्मचारी पर कार्यवाही की है लेकीन  दोषी समूह सप्लायर पर अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

भ्रष्टाचार के प्रमुख बिंदु

 1. बिना प्रशिक्षण कार्यक्रम के आयोजन के 5 लाख 50 हजार 8 सौ रुपयों का भुगतान करवाया गया ।

2. फर्जी प्रशिक्षण कार्यक्रम में आयटम बढ़ाकर जैसे चाय,नाश्ता, खाना  के प्लेट की संख्या बढ़ाकर 5 लाख 89 हजार 1 सौ 95 रुपयों का भुगतान करवाया गया, जबकि वास्तविक भुगतान 1लाख 22 हजार 1 सौ 5 रुपयों का होना था। स्पष्ट है कि वास्तविक भुगतान से पांच गुना अधिक का भुगतान करवाया गया।

3. दबाव डालकर  प्रशिक्षणार्थियों की वास्तविक संख्या 14  से बढ़वाकर 480 करवाकर को 1 लाख 93 हजार 8 सौ 70  रुपयों का भुगतान करवाया गया।

4. नियम प्रक्रिया का पालन किये बिना 18 लाख 97 हजार 4 सौ 16 रुपयों  का भुगतान करवाया ।

ये सारे तथ्य जिला प्रशासन जशपुर, की जांच में सामने आए हैं। उल्लेखनीय है कि इस शिवशक्ति स्व सहायता समूह की अध्यक्ष तो श्री चौरसिया की धर्मपत्नी हैं ही, साथ ही साथ कोषाध्यक्ष  और कुछ सदस्य भी श्री चौरसिया के परिजन ही हैं।ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि विधायक के संरक्षण व संलिप्तता में इस बड़े भ्रष्टाचार को अंजाम दिया गया होगा।

whatsapp group
Related news