NEWS UPDATE
slidersliderslider

कुछ वजह तो, होगी जो बिछ गये सरेराह..,

slider
news-details

बेवजह चले थे

सच के साँचे 

में ढलने..,

मंडी थी इक

वजह धंधे

की थी 

असत्य को 

उठाया है 

सिर आँखों 

पर,दैनिक भास्कर

तुम धन्य हो 

जो असत्य के

मार्ग पर सत्य

को ध्वस्त करते हो..!!!

slidersliderslider

Related News

slidersliderslider
logo