प्रेम ना तो वर्जना है...काव्य कलश

news-details

सुनील कुमार गुप्ता

 

 

प्रेम ना तो वर्जना है

और ना ही आत्म-नियंत्रण

ना है मर्यादा का उल्लंघन

ना सिर्फ खूबसूरत अहसास

और ना ही जिस्म की प्यास

प्रेम तो एक संभावना है

एक उम्मीद है

एक भरोसा और

एक विश्वास है

कि जीवन कभी मरेगा नही ।

प्रेम मरने नही देगा इसे :

जीवित रखेगा अहसास को

जिस्म की प्यास को

सुकून की तलाश को ।।